राब्ता शायरी – उनका आना सिर्फ मेरे ख्वाबों

उनका आना सिर्फ मेरे ख्वाबों तक महदूद है
राब्ता होते हुए भी राब्ता कोई नहीं है…