Tag: muntazir shayari in hindi

मुंतज़िर शायरी – हर सीना आह है तिरे

हर सीना आह है तिरे पैकाँ का मुंतज़िर
हो इंतिख़ाब ऐ निगह-ए-यार देख कर