Aitbaar Shayari By Bekhud Dehlvi – Jadu Hai Ya Tilism Tumhari Jaban Mein

जादू है या तिलिस्म तुम्हारी ज़बान में
तुम झूट कह रहे थे मुझे ए’तिबार था – बेख़ुद देहलवी

हिंदी पोएट्री २ लाइन में – दिल मे ना जाने

दिल मे ना जाने कैसे तेरे लिए इतनी जगह बन गई

तेरे मन की हर छोटी सी चाह मेरे जीने की वजह बन गई

हिंदी पोएट्री २ लाइन में – ये आप हम तो बोझ हैं

ये आप हम तो बोझ हैं ज़मीन का

ज़मीं का बोझ उठाने वाले क्या हुए