शब शायरी – आँखों से तुझ को याद

आँखों से तुझ को याद मैं करता हूँ रोज़-ओ-शब
बेदीद मुझ से किस लिए बेगाना हो गया

मुलाक़ात शायरी – कुछ चेहरे कभी भुलाये नहीं

कुछ चेहरे कभी भुलाये नहीं जाते,
कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते.
अब बात या मुलाक़ात हो या न हो…,
प्यार के चिराग कभी बुझाये नहीं जाते.

हसरत शायरी – मत पूछ कैसे गुज़र रहा

मत पूछ कैसे गुज़र रहा है हर पल मेरा तेरे बिना,
कभी बात करने की हसरत कभी मिलने की तमन्ना…

सहर शायरी – आज भी मैं तेरा इंतजार

आज भी मैं तेरा इंतजार करता हूँ
शामों-सहर खुद को बेकरार करता हूँ
जी रहा हूँ तन्हा ख्यालों में तेरे
शायद मैं अब भी तुमसे प्यार करता हूँ