Tag: बेस्ट वहशत शायरी

वहशत शायरी – कभी कभी तो ये वहशत

कभी कभी तो ये वहशत भी हम पे गुज़री है
कि दिल के साथ ही देखा है डूबना शब का