Tag: गुलशन poetry in hindi

गुलशन शायरी – सफर वहीं तक है जहाँ

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारो फूल है गुलशन मे मगर,
खूशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो..

गुलशन शायरी – न गुल अपना न खार

न गुल अपना न खार अपना, न जालिम बागबाँ अपना,
बनाया आह किस गुलशन में हमने आशियाँ अपना