Tag: क़ाफ़िला शायरी hindi mein

क़ाफ़िला शायरी – मुझ को चलने दो, अकेला

मुझ को चलने दो, अकेला है अभी मेरा सफ़र
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा..

क़ाफ़िला शायरी – ख़ुद ही शामिल नहीं सफ़र

ख़ुद ही शामिल नहीं सफ़र में,
पर लोग कहते हैं,क़ाफ़िला हूँ मैं…