Sher O Shayari 2 Lines – माना के ये वक्त़ बहुत पुर

माना के ये वक्त़ बहुत पुर-आशोब है लेकिन

अपने खूं से हम क़ातिल की क़ज़ा लिखते है