Shayri 2 Line Mein – शायद ख़ुशी का दौर भी

शायद ख़ुशी का दौर भी आ जाये एक दिन फराज़

ग़म भी तो मिल गया था तमन्ना किये बग़ैर ।।