Shayri 2 Line Mein – बज़ा है ज़ब्त भी लेकिन

बज़ा है ज़ब्त भी लेकिन मोहब्बत में कभी रो ले

दबाने के लिये हर दर्द ऐ नादाँ नहीं होता