Shayri 2 Line Mein – बख्शे हम भी न गए

बख्शे हम भी न गए बख्शे तुम भी न जाओगे,

वक्त जानता है हर चेहरे को बेनकाब करना