Shairo Shayari 2 Lines – मोहब्बत की इक जस्त

मोहब्बत की इक जस्त ने तय कर दिया किस्सा तमाम

इस जमीन ओ आसमाँ को बे-कराँ समझा था मै