Shairo Shayari 2 Lines – ना मेरे जख्म खिले हैं

ना मेरे जख्म खिले हैं ना तेरा रंग ए हिना

मौसम आये ही नहीं अब के गुलाबों वाले