Shair 2 Line Mein – राह ए तलब में छोड़

राह -ए-तलब में छोड़ दिया दिल का साथ भी

फिरते लिए हुए मुसीबत कहाँ कहाँ