Shair 2 Line Mein – पाप करो जी खोल कर

पाप करो जी खोल कर धब्बों की क्या सोच

जब जी चाहा धो लिए गंगा-जल के साथ