Sayari 2 Lines – ये रौशनी के तआक़ुब में

ये रौशनी के तआक़ुब में भागता हुआ दिन

जो थक गया है तो अब उस को मुख़्तसर कर दे