Sayari 2 Lines – तेरी शान में क्या नज़्म कहूँ

तेरी शान में क्या नज़्म कहूँ अल्फाज नही मिलते

कुछ गुलाब ऐसे भी हैं जो हर शाख पे नही खिलते