New Hindi Shayari 2017 – सूरज चढ़ा तो फिर भी

सूरज चढ़ा तो फिर भी वही लोग ज़द(range)में थे

शब भर जो इंतिज़ार-ए-सहर देखते रहे