New Hindi Shayari 2017 – शब ए वस्ल की क्या कहूँ दास्ताँ

शब-ए-वस्ल की क्या कहूँ दास्ताँ

जबाँ थक गई गुफ्तगू रह गई