New Hindi Shayari 2017 – राख में भी चैन से जीने

राख में भी चैन से जीने नहीं देते है लोग यहाँ,

दो दिन बाद आकर वहाँ से भी आधा ले जाते है