New Hindi Shayari 2017 – यूँ तो आँखो के सामने ही

यूँ तो आँखो के सामने ही था मंज़िल का पता,

फिर भी न जाने कैसे रह गया दो कदम का फासला