New 2 Line Shayari – निगाहें मुन्तजिर है

निगाहें मुन्तजिर है किस की दिल को जुस्तजू क्या है

मुझे ख़ुद भी नहीं मालूम मेरी आरजू क्या है