New 2 Line Shayari – दुश्मन को कैसे खराब केह दूँ

दुश्मन को कैसे खराब केह दूँ ग़ालिब

जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते है