Latest Hindi Shayari – शब ए अलम के भी होते है

शब-ए-अलम के भी होते है कुछ न कुछ अदब

तड़पने वाले सहर तक को इंतजार करे