Hindi Shair 2 Line Mein – मैं ख़ुद को ख़ुद में रखूँ कैसे

मैं ख़ुद को ख़ुद में रखूँ कैसे ..

वजूद सिर्फ़ तुम्ही…. का है मुझमें