Hindi Shair 2 Line Mein – मैं इक राज हूँ

मैं इक राज हूँ बस अपनों में ही खुलता हूँ

लतीफ़ा नहीं हूँ जो हर महफ़िल में सुनाई दूँ