Category: शरारत शायरी

शरारत शायरी – जिस दिन बंद कर ली

जिस दिन बंद कर ली हमने आंखें.
कई आँखों से उस दिन आंसु बरसेंगे.
जो कहते हैं के बहुत तंग करते है हम..
वही हमारी एक शरारत को तरसेंगे

शरारत शायरी – हमारी गलतियों से कही टूट

हमारी गलतियों से कही टूट न जाना,
हमारी शरारत से कही रूठ न जाना,

तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं,
इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना