Best Hindi Poetry – मुबहम थे सब नुक़ूश

मुबहम थे सब नुक़ूश नक़ाबों की धुँद में

चेहरा इक और भी पस-ए-चेहरा ज़रूर था