Best Hindi Poetry – मिला न जब कोई

मिला न जब कोई महफ़िल में हम-नशीनी को

मैं इक खयाल के पहलू में जा के बैठ गया