Best Hindi Poetry – मिरी शिकस्त भी थी

मिरी शिकस्त भी थी मेरी ज़ात से मंसूब

कि मेरी फ़िक्र का हर फ़ैसला शुऊरी था