Month: March 2020

इंतिक़ाम शायरी – ये काएनात भी क्या क़ैद-ख़ाना

ये काएनात भी क्या क़ैद-ख़ाना है कोई
ये ज़िंदगी भी कोई तर्ज़-ए-इंतिक़ाम है क्या