Month: November 2019

इजाज़त शायरी – सारे जज़्बों के बाँध टूट

सारे जज़्बों के बाँध टूट गए,
उस ने बस ये कहा इजाज़त है..

गुलशन शायरी – सफर वहीं तक है जहाँ

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारो फूल है गुलशन मे मगर,
खूशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो..