हिंदी शेरो शायरी – सारी गली सूनसान पडी थी

सारी गली सूनसान पडी थी बूँद-ए-फना के पहरे मे

जुदाई के दालान और आँगन मे बस इक साया जिंदा था