हिंदी शेरो शायरी – ये हक़ीक़त है

ये हक़ीक़त है कि अहबाब को हम

याद ही कब थे जो अब याद नहीं