हिंदी शायरी – मौत का भी

मौत का भी इलाज हो शायद

ज़िंदगी का कोई इलाज नहीं