हिंदी शायरी – मौत आ जाए ग़ालिब

मौत आ जाए ग़ालिब

दिल ना आये किसी पे