हिंदी शायरी – मद होशी में एहसास के

मद-होशी में एहसास के ऊँचे ज़ीने से गिर जाने दे

इस वक़्त न मुझ को थाम कि साक़ी रात गुज़रने वाली है