हिंदी शायरी – पता नहीं कौन सी

पता नहीं कौन सी हवा चल पड़ी है,

सब बेरूखे-से हुए हैं…त्वचा हो या अपने!