हिंदी शायरी – तू भी बेजार है ज़माने से

तू भी बेजार है ज़माने से

वो भी न खुश है वफ़ा से तेरी