हिंदी शायरी – काम जब जो करो

काम जब जो करो बस करो इबादत की तरह

किसी ज़र्रे को आसमां दिखाती है आंधी जिस तरह