हिंदी शायरी – उसी को बात न पहुँचे

उसी को बात न पहुँचे जिसे पहुँचनी हो

ये इल्तिज़ाम भी अर्ज़-ए-हुनर में रक्खा जाए