हिंदी पोएट्री २ लाइन में – रविश में गर्दिश

रविश में गर्दिश-ए-सय्यारगाँ से अच्छी है

ज़मीं कहीं की भी हो आसमाँ से अच्छी है