हिंदी पोएट्री २ लाइन में – बरसो से हसरत है

बरसो से हसरत है इस दिल ए नादान की,

कोई चाह ले इस कदर कि खुद पर गुमान हो जाए