हिंदी पोएट्री २ लाइन में – घर की वहशत से

घर की वहशत से लरज़ता हूँ मगर जाने क्यूँ

शाम होती है तो घर जाने को जी चाहता है