हिंदी के शेर दो लाइन में – समंदर बेबसी अपनी किसी से

समंदर बेबसी अपनी किसी से कह नहीं सकता;

हजारों मील तक फैला है, फिर भी बह नहीं सकता