हिंदी के शेर दो लाइन में – सब रुतें आकर चली जाती है

सब रुतें आकर चली जाती है

मौसम -ए-ग़म भी तो हिजरत करता है