हिंदी के शेर दो लाइन में – फांसलों की बानगी को

फांसलों की बानगी को सियासत का सिला कीजै,

तपाक से नही तो इत्तिफ़ाक से मिला कीजै