हिंदी के शेर दो लाइन में – पयम्बरों से ज़मीनें

पयम्बरों से ज़मीनें वफ़ा नहीं करतीं

हम ऐसे कौन ख़ुदा थे कि अपने घर रहते