हिंदी के शेर दो लाइन में – नसीहतें और दुआएँ बदलती नहीं है

नसीहतें और दुआएँ बदलती नहीं है

देने वाले लोग और तरीके बदल जाते है