शायरी २ लाइन में – शौक नही है

शौक नही है मुझे जज्बातों को यूँ सरेआम लिखने का..

मग़र क्या करूँ ,ज़रिया बस यही है, अब तुमसे बात करने का….